Breaking NewsBusinessपूर्वी चंपारण

चयनित वार्डों में अभी भी नल से जल का इंतजार

रक्सौल में नल-जल का काम सभी पंचायतों में जोरों पर है। कुछ वार्ड में नल से जल टपक चुका है। लेकिन, इसका विधिवत उद्घाटन नहीं किया गया है।...

मोतिहारी । रक्सौल में नल-जल का काम सभी पंचायतों में जोरों पर है। कुछ वार्ड में नल से जल टपक चुका है। लेकिन, इसका विधिवत उद्घाटन नहीं किया गया है। ऐसे वार्ड वासियों को समयानुसार पानी नहीं मिल रहा है। जिसके कारण लोगों को चापाकल के पानी पर निर्भर रहना पड़ता है। चलिए इस योजना के पड़ताल करने के लिए जागरण की टीम प्रखंड के जोकियारी पंचायत पहुंची। इस पंचायत में चौदह वार्ड है। सात वार्ड चयनित है। इनमें 3, 5, 6, 8, 10, 11, 14 वार्ड शामिल है। सभी चयनित वार्ड में पाइप व टावर का कार्य अंतिम चरण में है। लेकिन, लोगों को नल के जल के टपकने का इंतजार है। मुखिया ने सभी वार्ड सदस्यों को लगभग आठ माह पहले खाते में पैसा भेज दिए गया। ताकि इस योजना को धरातल पर उतारा जा सके। बावजूद इतने माह बीत जाने के बावजूद अभी तक लोगों को पानी नहीं मिल सका है। प्रत्येक वार्ड सदस्यों को दस-दस लाख लाख रुपये भेजे गए। कहते है ग्रामीण ग्रामीण वार्ड नंबर दस निवासी इसरार अहमद ने कहा कि सरकार का यह योजना सुपर फ्लॉप होगा। पैसा को पानी की तरह बहाया जा रहा है। वार्ड नंबर पांच निवासी अनिल साह का कहना है कि नल का जल कब लोगों के घर पहुंचेगा यह तो भविष्य के गर्भ में है। लगता है इस साल तो इस योजना का पानी नहीं मिल पाएगा। वार्ड नंबर छह निवासी प्रभु ¨सह ने कहा कि जितना पैसा इस योजना में खर्च किया जा रहा है। इससे कम पैसे में लोगों को चापाकल मुहैया करा दिया जाता तो बेहतर होता। वार्ड नंबर आठ निवासी किशोर त्यागी ने बताया कि क्या कहा जाए इस योजना के बारे में, कही ऐसा ना हो यह योजना सुपर फ्लॉप साबित हो जाए। कहती है मुखिया मुखिया संध्या देवी ने कहा कि इस योजना पर पानी की तरह पैसा बहाया जा रहा है। सच कहूं तो यह योजना सरकार की योजनाओ में सबसे बदतर है। यानि सुपर फ्लॉप साबित होगा। कहते है बीडीओ बीडीओ कुमार प्रशांत ने पूछने पर बताया कि पाइप बिछाने की क्या स्थिति है। यह तो जांच के बाद पता चलेगा। क्योंकि जमीन के अंदर की बात है। लेकिन टावर का कार्य घटिया हुआ है। कारण कि लोहे के काम मानक के विरुद्ध हुआ है। इसे तोड़कर दूसरा बनाना होगा या फिर लोहे के कार्य को और लोहा लगाकर टावर को मजबूत करना होगा।

Related Articles

Close